जब एक औरत माँ से पिता बन गई

दोस्तों आज मे आपके लिए ऐसी कहानी लाई हूं। जो की एक माँ और बेटी की है जो अपनी बेटी की ख़ुशी के लिए कैसे एक पिता बन गई। दोस्तों कोई इस बात को माने या न माने परन्तु यह एक कड़वा सच है कि विश्व की डाउन हिल चैपियनशिप जीतने वाली महिला खिलाड़ी ईराका की एक मात्र बेटी कलेर थी। तो आइये दोस्तों जानते है इसके बारे मे विस्तारपूर्वक………जब एक औरत माँ से पिता बन गई

दोस्तों यह कहानी है सन1966 मे डाउन हिल चैपियनशिप जीतने वाली महिला खिलाड़ी इरिका की एक ही संतान थी, उसका नाम कलेर था। लेकिन जब एक बार स्कूल की ओर से पिकनिक पर गई थी उसके बाद जब कलेर अपने घर आयी तो……. अपने घर मे बैठे एक आदमी को  देखकर वही रुक गई। उसके पांव दरवाजे पे ही रुक गए। उसने एक अजनबी को देखकर पूछा…..

आप……आप……कौन है…….

आओ बेटी। अंदर आओ……. तुम वही पर क्यों रुक गई हो।

मगर आप …….. कलेर की आवाज गले मे ही फंस गई हो। जैसे आगे कुछ कहने का साहस उसमे न हो। एक अजनबी आदमी उसके घर में बैठा सिगरेट के लम्बे-लम्बे कश लगा रहा हैं।जिसे वह जानती तक नही और कमाल तो यह हैं कि वह उसे ऐसे बेटी कह  कर पुकार रहा हैं, जैसे वह वास्तव मे ही उसका पिता हो……..

बेटी, तुम क्या सोच रही हो ,अपने ही घर मे आकर अपनी माँ को भूल गई हो।

माँ…… हा… हा…. उस आदमी से माँ का शब्द सुनकर कलेर पागलो कीभांति ज़ोर-ज़ोर से हँसने लगी।

READ :  क्या सच में कभी मंगल ग्रह पर जीवन था जो एक एलियन युद्ध में खत्म हो गया ??

हंस क्यों रही हो बेटी अंदर क्यों नही आ रही हो।इतने दिनों के पश्चात घर आयी हों क्या अपनी माँ के गले नही लगोगी।

माँ से प्यार नही करोगी?

चुप रह बदमाश बूढ़े मै तेरे गले से लग कर प्यार करूँगी….धोखेबाज….. मै समझती हूं आजकल के पुरुषों को जो मुँह से से तो बेटी कहते हैं मगर मन से……

कलेर ….. बस करो बस करो बहुत हो  गया। मुझे और मत तड़पाओ…..आओ..अपनी माँ के गले से लग जाओ।

ओ बूढे खूसट,अब तू भी बस कर् बहुत हो गया तेरा निकल जा मेरे घर से,मै अब यह सब सहन नही कर सकती हर चीज़ की कोई हद होती हैं। शराफत इसी मे है कि…. अभी  बाहर हो जा नही तो मुझे पुलिस का सहारा लेना पड़ेगा। मुझे तो इस बात का संदेह है कि तुमने मेरी मम्मी की हत्या कर दी है और अब मुझे अपनी  वासना का शिकार बनाना चाहता है। लेकिन मै इतनी कच्ची गोलियां नही खेली हूं।,तो तेरी हवस का शिकार इतनी आसानी से हो जाऊंगी।

कलेर, वह आदमी पूरी ताकत से चील्ला पड़ा था।

चिल्लाने कुछ नही होता मिस्टर …… मेरा पीछा छोड़ दो और मेरे घर से बाहर होकर बात करो और जाते – जाते यह भी बता दो की मेरी मम्मी  कहाँ है। तुम्हे अपनी मम्मी से मिलना है ना? ठीक है, पहले शांति से बैठ जाओ मै अभी तुम्हरी मम्मी से मिलवा देता हूं …… शर्त यही है पहले आराम से बैठ जाओ और यह गलत बोलना बंद करो।

कलेर का क्रोध काफी हद तक शांत हो गया उस आदमी की आँखों मे झांक कर जैसे ही उसने देखा तो उसके अंदर से अपनेपन की आवाज आयी….. इसे कैसे संभव हो सकता है कि….. कुछ समझ नही पा रही थी वह। उसका मन बुरी तरह से धड़क रहा था, उसे अपने मन की  आवाज पर बिश्वास इसलिये नही हों पा रहा ताकि उसकी आँखे जो कुछ देख रही थी। उसे उसका मन स्वीकार करने को तैयार नही था।

READ :  रहस्यमयी कैलाश पर्वत – Mysterious Kailash Parvat

वह उस पुरुष के पास बैठ  तो गई थी, परन्तु अब भी उसका दिल बुरी तरह धड़क रहा था ……वह  दुविधा मे पड़ गई थी।

तुम्हे अपनी माँ से मिलना है,?

हां…..उसका जवाब बहुत रुखा था।

ठीक हैं, हम  अभी आपको आपकी माँ से मिलवा देते हैं। यह कहते हुए उस आदमी ने जोर से आवाज लगायी

रोजी डार्लिंग बाहर आओ….अपनी बेटी से मिलो यह कुछ अधिक ही क्रोध मे आ रही है। कलेर ने देखा अंदर से एक औरत मुस्कराती हुई बाहर निकली मगर उसे यह फैसला करने मे अधिक देर नही लगी कि वह औरत उसकी माँ नही थी।

कलेर तुम कैसी हो…. उस औरत ने  उसे बच्चो की भांति प्यार करते हुए सीने से लगा लिया।

मगर आप तो मेरी माँ नही है।

मम्मी थी नही कलेर, मगर  अब मै तुम्हरी  मम्मी बन चुकी हूं।

लेकिन मेरी  मम्मी कहा है?

तुम्हरी मम्मी अब तुम्हरे डैडी बन गए है।

यह आप कह रही हैं ? आश्चर्य से कलेर की आँखे फैल गई थी। उसे  विश्वास नही आ रहा था कि यह जो कुछ उसने सुना है, वह ठीक भी हो सकता हैं।

वह उस पुरुष की ओर पहली बार ध्यान से देखने लगी थी। उस की आँखों मे झांक कर जैसे उनके ह्रदय मे झांक कर देखा तो उसे इस बात का अहसास होने लगा कि……

READ :  06 Ancient Cities Buried Under Water | पानी में दफ़न दुनिया के 6 प्राचीन शहरों का रहस्य

बेटी क्या देख रही हो? ……यह सब  प्रकृति के ही खेल है।कही जीवन देती हैं, वही मृत्यु….. वही हमें इंसान बनाती है। शैतान या देवता …..कलेर ने अपनी माँ की आँखो मे झांक कर उसे पहचान लिया था।

उसे सब कुछ बदला – बदला लग रहा था। मगर उसका मन तो नही बदला था। वह बार- बार रहस्य के बारे मे सोच रही थी।

क्या कोई औरत पुरुष का रूप धारण कर रही सकती थी। प्रकृति का यह खेल कितना रहस्मय और रोमांचकारी था? कितना विचित्र था यह सब कुछ (मम्मी) ने नई शादी भी कर ली।

और शादी के एक वर्ष के पश्चात् हरिक ने अपनी पत्नी के पेट से जब अपने बेटे का जन्म दिलवा कर पिता बनने का गर्व महसूस  किया तो…….

कलेर को इस रहस्य को समझने मे जरा भी संकोच न हुआ कि उसकी मम्मी अब उसके डैडी का रूप धारण कर चुकी हैं।

दोस्तों अगर आपके पास भी ऐसी कोई मन को  छूने वाली कहानी हो तो आप हमें बता सकते हो। और आपको यह कहानी पसंद आई हो तो Likes, Comments और Share जरूर करें।

Comments

  • a thought by Kusum

    Nice story

    Reply

  • a thought by वैज्ञानिक…जो अपने ही अविष्कार से मारे गए – Scientist… who killed by his own invention – SolutionBros.com

    […] Related Articles: जब एक औरत माँ से पिता बन गई […]

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Name and email are required