रविन्द्र कौशिक उर्फ़ ब्लैक टाइगर – एक भारतीय जासूस जो बन गया था पाकिस्तानी सेना में मेजर

ब्लैक टाइगर

अपने देश के लिए दुशमन देश में जाकर जासूसी करना बड़ा ही मुश्किल भरा काम होता है। एक तरफ तो जहां हर वक़्त उनकी गर्दन पर मौत की तलवार लटकी रहती है वही दूसरी तरफ बदकिस्मती से यदि वो देश की सेवा करते हुए दुश्मन देश में पकड़ा जाए तो अपने देश की सरकार ही उनसे पल्ला झाड़ लेती है, उनकी किसी तरह की कोई सहायता नहीं करती है। और अंत में  जब उनकी दुशमन देश में मौत हो जाती है तो उनको अपने वतन की मिट्टी तक नसीब नहीं होती है।

आज हम आपको एक ऐसे ही भारतीय जासूस की सच्ची कहानी बताते है जो पाकिस्तान जाकर, पाकिस्तानी सेना में भर्ती होकर मेजर की पोस्ट तक पहुँच गया था। लेकिन जब वो पकड़ा गया तो भारत सरकार ने किसी तरह की कोई मदद नहीं की, यहां तक की उसकी मौत के बाद उसकी लाश भी देश नहीं लाई गई।

यह कहानी है भारतीय जाबांज जासूस ‘रविन्द्र कौशिक’ उर्फ़ ‘ब्लैक टाइगर’ की।

राजस्थान के श्री गंगानगर के रहने वाले रविन्द्र कौशिक का जन्म 11 अप्रैल 1952 को हुआ। उसका बचपन गंगानगर में ही बीता। बचपन से ही उसे थियेटर का शौक था इसलिए बड़ा होकर वो एक थियेटर कलाकार बन गया। जब एक बार वो लखनऊ में एक प्रोग्राम कर रहा था तब भारतीय ख़ुफ़िया एजेंसी रॉ के अधिकारियों की नज़र उस पर पड़ी। उसमे उन्हें एक जासूस बनने की सम्भावना नज़र आई। रॉ के अधिकारीयों ने उससे मिलकर उसके सामने जासूस बनकर पाकिस्तान जाने का प्रस्ताव रखा जिसे की उसने स्वीकार कर लिया।

READ :  Neerja Bhanot - The Heroine of The Hijack

रॉ ने उसकी ट्रेनिंग शुरू की। पाकिस्तान जाने से पहले दिल्ली में करीब 2 साल तक उसकी ट्रेनिंग चली। पाकिस्तान में किसी भी परेशानी से बचने के लिए उसका खतना किया गया। उसे उर्दू, इस्लाम और पाकिस्तान के बारे में जानकारी दी गई। ट्रेनिंग समाप्त होने के बाद मात्र 23 साल की उम्र में रविन्द्र को पाकिस्तान भेज दिया गया। पाकिस्तान में उसका नाम बदलकर नवी अहमद शाकिर कर दिया गया। चुकी रविन्द्र गंगानगर का रहने वाला था जहाँ की पंजाबी बोली जाती है और पाकिस्तान के अधिकतर इलाकों में भी पंजाबी बोली जाती है इसलिए उसे पाकिस्तान में सेट होने में ज्यादा दिक्कत नहीं आई।

READ :  धैर्य, हिम्मत और साहस - A Inspirational Story

रविन्द्र नें पाकिस्तान की नागरिकता लेकर पढाई के लिए यूनिवर्सिटी में दाखिला लिया जहां से उसने क़ानून में ग्रेजुएशन किया।  पढाई ख़त्म होने के बाद वो पाकिस्तानी सेना में भर्ती हो गया तथा प्रमोशन लेते हुए मेजर की रैंक तक पहुँच गया। इसी बीच उसने वहां पर एक आर्मी अफसर की लड़की अमानत से शादी कर ली तथा एक बेटी का पिता बन गया।

रविन्द्र कौशिक ने 1979 से लेकर 1983 तक सेना और सरकार से जुडी अहम जानकारियां भारत पहुंचाई। रॉ ने उसके काम से प्रभावित होकर उसे ब्लैक टाइगर के खिताब से नवाज़ा। पर 1983 का साल ब्लैक टाइगर के लिए मनहूस साबित हुआ। 1983 में रविंद्र कौशिक से मिलने रॉ ने एक और एजेंट पाकिस्तान भेजा। लेकिन वह पाकिस्तान खुफिया एजेंसी के हत्थे चढ़ गया। लंबी यातना और पूछताछ के बाद उसने रविंद्र के बारे में सब कुछ बता दिया।

जान जाने के डर रविंद्र ने भागने का प्रयास किया, लेकिन भारत सरकार ने उसकी वापसी में दिलचस्पी नहीं ली। रविंद्र को गिरफ्तार कर सियालकोट की जेल में डाल दिया गया। पूछताछ में लालच और यातना देने के बाद भी उसने भारत की कोई भी जानकारी देने से मना कर दिया। 1985 में उसे मौत की सजा सुनाई गई, जिसे बाद में उम्रकैद में बदला गया। मियांवाली जेल में 16 साल कैद काटने के बाद 2001 टीवी और अस्थमा से उसकी मौत हो गई। उसकी मौत के बाद भारत सरकार ने उसका शव भी लेने से मना कर दिया।
भारत सरकार ने रविंद्र से जुड़े सभी रिकॉर्ड नष्ट कर दिए और रॉ को चेतावनी दी कि इस मामले में चुप रहे। उसके पिता इंडियन एयरफोर्स में अफसर थे। रिटायर होने के बाद वे टेक्सटाइल मिल में काम करने लगे। रविंद्र ने जेल से कई चिट्ठियां अपने परिवार को लिखीं। वह अपने ऊपर होने वाले अत्याचारों की कहानी बताता था। एक खत में उसने अपने पिता से पूछा था कि क्या भारत जैसे बड़े मुल्क में कुर्बानी देने वालों को यही मिलता है?

READ :  Mahashian Di Hatti (MDH) – Success Story

 

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Name and email are required