Is Ghost Really Exist or Not?……क्या सचमुच भूतप्रेत होते हैं?

Ghost

​दोस्तों 1969 में उड़ीसा के एक कस्बे खरियार रोड में दो मित्रों ने मिलकर अजीब शर्त लगाई, शर्त यह थी कि अमावस्या की रात को दोनों में से जो भी कब्रिस्तान में एक खास कब्र के नीचे कील ठोक के आएगा, उसे 500 ईनाम में मिलेंगे। Ghost

एक मित्र कब्रिस्तान जाने पर राजी हो गया, शर्त के मुताबिक बारिश के मौसम की घनघोर अँधेरी रात में कील ठोक कर ज्यो ही वह लौटने लगा कि अचानक उसे लगा जैसे उस कब्र में कोई उसकी धोती पकड़ कर खींच रहा है, जैसा डरावना ख्याल आते ही उसने जोरों से चीख मारी और परन्तु वही गिरकर बेहोश ही गया। सुबह लोगो को उसकी लाश मिली,लोगो ने सही समझा कि उसे किसी प्रेत ने मार दिया था क्योंकि उसने कब्रिस्तान में कील ठोकने का दुस्साहस किया था,पर वह व्यक्ति कैसे मरा था ? बहुत दिनों तक वह भेद ही रहा। उसमे न तो कोई साजिश थी और न ही प्रेतत्माओ की कारगुजारी, यह रहस्य घटना के बहुत दिनों बाद खुला।

Ghost

भूत प्रेत के बारे में न केवल भारत बल्कि पूरी दुनिया में तरह-तरह की भयभीत कर देने वाली धारणाएं फैली है

READ :  A Real Horror Story - Ek Bhool Jisne Badal Di Zindagi

भूतप्रेतों की बातें न केवल पिछड़े हुए गांव, कस्बो में बल्कि बड़े-बड़े शहरों में भी सुनने को मिलती है, जहाँ बैगा, गुनिया, औझा, तांत्रिक  इसी अंधविशवास  के कारण लोगो को लूट रहे है और मौज उड़ा रहे है। ऐसे में प्रश्न के उठता है कि क्या सचमुच भूत प्रेत होते हैं ? Ghost

इस प्रश्न का एक ही जबाब है नही परन्तु यदि भूतप्रेत नही होते तो उनकी बातें आज भी अखबारों में, किवदतियो में या किताबो और फिल्मों में पढ़ने-सुनने को क्यों मिलती है ?


Related Articles: मरने के बाद भी किया अपना बादा पूरा – A Horror Story


इस प्रश्न के उत्तर में हमे विज्ञान की एक शाखा मनोविज्ञान के उस तर्क का उलेलख करेगे जिसमे फ्रायड़ ने इसे आँखों या दिमाग का भ्रम मात्र माना है, यह भम्र निर्मूल हो सकता है। जिस के मायने ये है कि हमारी आशंका बिल्कुल निर्मूल है तथा मिथ्या विश्वास भी हो सकता है। भूतप्रेत का डर ज्यादातर बच्चो को ही होता है, उनके मन में भूत प्रेतों, राक्षसों के डरावने किस्से, कहानियां पढ़कर एक गाँठ बन चुकी होती है जो बड़े होने पर ही ख़त्म होती है।

READ :  Top 09 Haunted Places In Delhi

यदि भूतप्रेत वास्तव में होते है या असमय होने वाली मौत के बाद व्यक्ति भूतप्रेत बन जाता है और वह अपने हत्यारे से बदला लेता है, ऐसा मानने वालों से पूछा जाना चाहिए कि यदि भूत प्रेत अपने हत्यारे से बदला लेता है तो दुनिया में रोज सेकड़ो हत्याएं होती है और उनके हत्यारे खुलेआम घूमते है उनको तो कुछ हानि नही होती ,यदि यह सच हो तो विश्व की सरकारें कानून और व्यवस्था के लिए पुलिस विभाग बनाने के बजाय भूतप्रेत सरक्षण विभाग खोल देगी जिनमे सारे भूत प्रेत एक -एक करके अपने हत्यारो से बदला लेंगे तथा उनका आहान करने के लिए ओझाओ को नियुक्त किया जाएगा। यदि यह सच होता तो विश्वयुद्ध में जर्मनी के हाथों मारे गए करोडो यहूदियों की आत्माए आज जर्मनी का जीना मुहाल कर देती।

 


Related Articles: Unsolved Mystery of My Life


वास्तव में भूतप्रेतों की बाते मनगढ़त है। भूतप्रेतों ओर शोध करने वाले भी प्रर्याप्त प्रणाम नही जुटा सके है। हैरी प्राइस नामक व्यक्ति जिसने सन1940 में पुस्तक ,द मोस्ट हाटेड हाउस इन इंग्लैंड'( इंग्लैड का सर्वाधिक भूतग्रस्त मकान) लिखी थी, लगातार 40 वर्ष तक भूत प्रेतों का प्रमाण देने की कोशिश की जो बाद में जालसाजी के नुमूने साबित हुए।

READ :  ​​एक शापित बस्ती...जहा मौत भी आ जाए तो.......!!!!

दोस्तों कई बार भूत सचमुच आदमी के प्रांण ले लेता है,मगर वह नही होता , वह होता है भ्रम का भूत। शुरुआत में बताई गई घटना में भी भय के भूत ने उस दोस्त के प्राण लिए थे जो कब्रिस्तान में कील ठोकने गया था,हुआ यह था कि उसने अंधरे में जल्दी-जल्दी में अपनी धोती पर कील ठोक दी थी जब वह उठा तो उसे लगा कि कब्र में से कोई उसकी धोती खींच रहा है। इस बात का पता विशेषज्ञो को तब चला जब उन्होंने कील में फंसी मृतक की धोती के टुकड़े को बरामद किया।

Comments

  • a thought by Is Ghost Really Exist or Not?……क&#238…

    […] दोस्तों 1969 में उड़ीसा के एक कस्बे खरियार रोड में दो मित्रों ने मिलकर अजीब शर्त लगाई, शर्त यह थी कि अमावस्या की रात को दोनों में से जो भी कब्रिस्तान…Ghost  […]

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Name and email are required