Kaas Aisa Hota – A True Inspirational Story

दोस्तों यह कहानी हैं। एक बार एक कारपेंटर की जिसकी उम्र थी 60 साल होंगे थी। और  40 साल उसको हो गये थे नोकरी करते हुए । एक दिन उसने सोचा की अब उसे रिटायरमेंट ले लेनी चाहिए। वो एक दिन अपने बॉस के पास जाता हैं की बॉस अब में रिटायरमेंट लेना चाहता हूं। 40 साल मेने काम किया हैं अब में अपनी जिंदगी अपनों के साथ, बच्चो के साथ और बच्चो के बच्चो के साथ समय बिताना चाहता हूँ। Kaas Aisa Hota 

आप तो जानते हो की अब बॉस तो बॉस होते है वो सोचते है कि जाते-जाते थोडा और काम निकलवा दिया जाए तो अच्छा रहेगा। उसका बॉस उस कारपेंटर को कहता है की “देखो ठीक हैं रिटायर होना हैंl  तो हो जाओ उसे कोई प्रॉब्लम नहीं हैं। फिर बॉस बोलता है। तू अच्छे से रिटायरमेंट ले, लेकिन एक प्रोजेक्ट आया हैं एक आखिरी प्रोजेक्ट हैं, और यह ढाई महीने का प्रोजेक्ट हैं| उसके बस तुझे अच्छी सी बिदाई की पार्टी देगे, अच्छे से गिफ्ट देकर और अच्छे से तेरे रिटायरमेंट का उत्सव मनायेगे|
दोस्तों सोचो अगर आप भी उस कारपेंटर की जगह होते तो क्या करते? हां बोल देते न क्योंकि उसने पूरी जिंदगी वहा  पे लगा दी और आखिर मे वो मना नही कर सकता था। उसने भी हाँ बोल दी और अगले दिन से काम पर आ गया|

READ :  Success Story of Larry Page - Google CEO

लेकिन अब बहुत फरक आ गया था उसने सोचा था घर बेठना हैं लेकिन अब उसे जबरदस्ती काम पर आना पड़ रहा है| आज से पहले पुरे मन से घर बनता था लेकिन अब आधा अधुरा मन काम पे लग रहा था।
जिस कारपेंटर ने अपने पुरे करियर में अच्छे से अच्छे घर बनाये, वो अपने करियर के आखिरी घर को पुरे दिल से नहीं बना पा रहा था| बस काम चलाऊ घर बना रहा हैं, और किसी तरीके से ढाई महीने लगा कर उसने आधे-अधूरे मन से काम चलाऊ घर तेयार कर दिया|
अब ढाई महीने खत्म हो चुके हैं, घर रेडी हैं और बॉस आता हैं, बॉस अभी घर की तरफ चल ही रहा होता हैं, घर से कुछ कदम दूर होता हैं, तो बॉस वह रुकता हैं, कारपेंटर का हाथ पकड़ता है, उसके हाथ में घर की चाबी रखता हैं और कहता है।
यह जो तूने घर बनाया है यह घर हमारी तरफ से  तुझे तोहफा है। तेरी 40 साल के काम का ये तेरा अपना घर था जो तू बना रहा था। सोचो क्या बीत रही होगी उस समय पे उस कारपेंटर के दिमाग में, क्या चल रहा होगा उस कारपेंटर के दिमाग में?

READ :  धैर्य, हिम्मत और साहस - A Inspirational Story

काश, काश मुझे पता होता यह घर मेरा हैं, काश किसी ने मुझे बताया होता की यह घर मेरा हैं| तो में अपने करियर का बेकार घर बनाने के जगह करियर का सबसे अच्छा घर बनता, काश मुझे किसी ने बताया होता की इस घर में मुझे रहना हैं, तो में एक-एक कम ध्यान सबसे अच्छे से करता क्योंकि यह घर मेरा है|

दोस्तों यह कहानी मेने आपके साथ share इसलिए की क्योंकि इसी तरह इस कारपेंटर की तरह हम भी हर रोज अपने आने वाला कल बना रहे हैं हर रोज पालिसी कर रहे है अपने भविष्य के लिए, उस भविष्य की जिसमे हमें रहना हैं, जिसको हमें जीना हैं जो हमारे आने वाला कल हैं|

हम में से कुछ लोग अपने आने वला कल को सजाते हैं, उसके लिए एक्शन लेते हैं और हम में से ही कुछ लोग आने वाले कल में यह कहेगे: काश, काश, काश.. अगर आप अपनी जॉब पर 100% परफॉर्म कर रहे हो, अपना बेस्ट दे रहे हो तो आने वाले समय पे आपके पास एक अच्छी स्थिति और अच्छी पगार होगी|

READ :  Ratan Tata Biography – Success Story

और अगर अपना बेस्ट नहीं दे रहे है, अच्छा पेर्फ्रोम नहीं कर रहे तो आपके पास बचेगा: “काश”

इसे अगर आप Student हो और अपने समय का पालन कर रहे हो और हर रोज मेहनत कर रहे हो तो आने वाले समय में आपके पास में एक अच्छा कैरियर होगा। और अगर कार्य नहीं कर रहे तो दुसरो को देख के आप भी बोलोगे: “काश”
तो चाहे आप विध्यार्थी, जॉब में हो, बिज़नेस मे हो, अध्यापक हो, खिलाडी हो, पापा हो या मम्मी हो, आप हर रोज अपने आने वाला कल बना रहे हो| और आपके आने वाला कल कैसे होगा यह आपका हर दिन का एक्शन पर निर्भर करेगा| अब दोनों में से एक ही ही चीज संभव हैं और इसे आप ही चुनेगे की भविष्य में आपको काश चाहिए या आकाश| भविष्य में अपनी मर्जी से जीना हैं या काश नाम का कडवा खून पीना हैं|

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Name and email are required