मरने के बाद भी किया अपना बादा पूरा – A Horror Story

मरने के बाद भी किया अपना बादा पूरा

​दोस्तों मेरा नाम मनीष तिवारी है। मै सिविल एंजिन्यरिंग की पढ़ाई कर रहा हूँ। मेरा अधिक समय हॉस्टल में ही बीतता है, छुट्टीया होने पर मै पास ही में अपने घर गाजियाबाद जाता हूँ। मेरे रमेश मामा एक जी॰ ई॰ बी॰ कर्मचारी थे। मेरे रमेश मामा दिखने में खूब काले और हाइट में लंबे थे। उन्हे खाने में कुछ भी दे दिया जाए वह जानवरों की तरह खा लेते थे। उन्हे स्वाद की कोई समझ नहीं थी। रमेश मामा को शादी का बड़ा चस्का था, पर खुद चांडाल जैसे दिखते थे तो उनको कोई भी लड़की देखती नहीं थी। A Horror Story !!

मरने के बाद भी किया अपना बादा पूरा
मरने के बाद भी किया अपना बादा पूरा

हम सब जब भी मेले में घुमनें जाते थे तो रमेश मामा घूर घूर कर लड़कियों को ऐसे ताकते रहते थे की उन्हे खा ही जाएगे। लेकिन बद किस्मती से, पिछले साल बिजली का शोक लगने से उनकी मौत हो गयी थी। हम सारे उनकी शमशान यात्रा में शरीक हुए थे। वहीं मुझे एक डरावना अनुभव हुआ था, जिस के बारे में मै सब को बताना चाहता हूँ।

उस रात दो बझे के करीव मेरी नींद खुल गयी…शायद किसी नें मुझे आवाज़ दी थी….मै एक दम से चौक गया। उठ कर आसपास देखा तो कोई भी नहीं था। मै फिर से बत्ती बुझा कर सो गया। तभी अचानक किसी नें फिर से मुझे मेरे नाम से पुकारा…. इस बार मैंने गौर किया तो मुझे समझ आया की यह तो.. मेरे रमेश मामा की आवाज़ थी।

मुझे यकीन नहीं हुआ की रमेश मामा की आवाज़ इतनी रात मुझे क्यूँ सुनाये दे रही है। कुछ देर बाद मै फिर से सो गया। सोते सोते मेरी नज़र खिड़की के बाहर गयी। वहाँ जो मुझे दिखा…उसे देख कर मै तो चौक गया….मेरे पसीने छूट गए….उस बिजली की तार पर मेरे रमेश मामा बैठे थे। जो में देख रहा था उसे देख कर, मुझे अपनी आँखों पर यकीन नहीं हो रहा था।

READ :  डायन का ख़ौफ़.........!

Awesome Deal: Swipe Elite Power- 4G with VoLTE (Space Grey, 16 GB)

तभी अचानक मेरा मोबाइल बझ उठा। मैंने पसीना पोंछते हुए फोन रिसीव किया। वह फोन मेरी माँ का था। माँ नें रोते हुए मुझे कहा की तेरे मामा की शोक लगने से मौत हो गयी है। तू हो सके उतना जल्दी हॉस्टल से घर आ जा। मै फ्रेंड की बाइक ले कर फौरन रात में ही घर पहुंच गया। फिर वहाँ से हम रमेश मामा के घर गए, वहाँ उनकी अधजली लाश देख कर मेरे तो रोंगटे खड़े हो गए।

मेरे पापा वही थे, मैंने उन्हे पूछा की यह सब कब हुआ? पापा नें बताया की करीब तीन घंटे पहले तेरे मामा बिजली के फोल्ट को ठीक करने खंभे पर चड़े थे, तभी अचानक मैं लाइन का करेंट शुरू हो गया, और यह दर्दनाक घटना हो गयी।

मुझे वहाँ खूब रोना आया, चुकी मेरे मामा मेरे दोस्त की तरह थे। मै उनका खूब मज़ाक भी उड़ाता था पर वह कभी बुरा नहीं मानते थे और मेरी हर परेशानी में मेरा साथ देते थे। फिर मुझे हॉस्टल वाली घटना याद आई।

मरने के बाद भी किया अपना बादा पूरा
मरने के बाद भी किया अपना बादा पूरा

शायद मैने रमेश मामा के भूत की ही आवाज़ सुनी थी। और खिड़की के बाहर तार पर भी मुझे रमेश मामा का प्रेत ही दिखा होगा। अब धीरे धीरे मेरा शोक (दुख), खौफ और डर में तबदील होता जा रहा था। मुझे पता नहीं था की उनका भूत मरने के बाद मेरे पास क्यूँ भटक रहा था।

READ :  A Real Horror Story - Ek Bhool Jisne Badal Di Zindagi

यह सब सोच सोच कर मेरे तो पसीने छूट रहे थे। मुझे अंदर ही अंदर डर सता रहा था, की आगे क्या होगा। अगले ही दिन रमेश मामा की अग्नि दाह विधि थी। वहाँ मै भी गया। सारे सगे संबंधी अग्नि दाह के लिए लकड़ियाँ लगा रहे थे। तभी अचानक मेरी नज़र रमेश मामा की लाश की और गयी। मैंने देखा की रमेश मामा के हाथ के पंजे मे कुछ हरकत हुई। शायद उनका पंजा मेरी और उठा और हाथ से मुझे पास आने का इशारा किया।

Related Articles: Top 09 Haunted Places In Delhi

यह सब देख कर मै पागलों की तरह चीखनें लगा। सब सगे संबंधी दौड़ कर मेरे पास आ गए। मैंने जो भी हुआ था वह सब उन्हे बताया। पर वहाँ किसी नें मेरा विश्वास नहीं किया। सब नें मेरे पापा को बोला की मनीष डर गया है इसको घर भेज दीजिये। मेरे पापा फौरन उसी वक्त मुझे घर ले आए। और वापिस शमशान चले गए।

फिर उस रात मुझे ज़ोरदार बूखार चड़ गया। मेरे पापा मेरे लिए दवाई भी लाये। पर बूखार उतर ही नहीं रहा था। उस रात मुझे रमेश मामा के भूत का डर भी सता रहा था। करीब रात के तीन बझे फिर से मुझे किसी के चलने की आहट सुनाए दी। फौरन मेरी आँखेँ खुल गईं। मैंने देखा की मेरे बिस्तर के पास रमेश मामा बैठे हैं। उनका आधा चहरा जला हुआ था। और वह मेरी और देख रहे थे। उनका भूत देख कर मेरी ज़बान हलक में अटक गयी और सांस फूल गयी।

READ :  चमकीला प्रेत: जिसकी वजह से बदल गयी ज़िन्दगी

मै बे-तहाशा काँप नें लगा। मुझे समझ नहीं आ रहा था की मेरे रमेश मामा का भूत हाथ धो कर मेरे पीछे ही क्यूँ पड़ा है। कुछ देर बाद रमेश मामा नें अपनी जेब में हाथ डाला और कुछ निकाल कर मेरे बिस्तर पर रखा…..फिर अचानक उनका भूत एक जटके में वहाँ से गायब हो गया। मै तो वह सब देखता ही रह गया। और यका-यक मेरा बूखार भी उतर गया।

Related Articles: Unsolved Mystery of My Life

मैंने तुरंत बत्ती जलायी… और बिस्तर पर देखा तो वहाँ 16 GB की नयी पेन ड्राइव पड़ी था। अब पूरी बात मुझे समझ आ चुकी थी। की क्यूँ मेरे रमेश मामा मर कर भी बार बार मेरे पास आ कर मुझ से बात करना चाहते थे। उन्हे मुझ को मेरी गिफ्ट मुझे सौपनी थी।
दो दिन पहले मेरे रमेश मामा मेरे हॉस्टल आए थे और मेरे एक्जाम में अच्छे मार्क लाने पर खुस हो कर, उन्होने मुझसे वादा किया था की वह मुझे नयी पेन ड्राइव गिफ्ट करेंगे। और हस्ते हुए मैंने उन्हे कहा था की इस बार कोई बहाना मत बनाना, मर भी जाओ तो भी, मेरा गिफ्ट ज़रूर मुझ तक पहुंचा देना।

 

मेरे रमेश मामा नें मर कर भी अपना वादा निभाया। उस दिन मुझे पता नहीं था की कुछ दिनों बाद मेरे रमेश मामा का साथ हमेशा के लिए छूट जाएगा।

दोस्तों आपको हमारी यह Post पसन्द आई हो तो Like, Comments और Share जरूर करें।

Comments

  • a thought by मरने के &#2…

    […] दोस्तों आज में आपको एक सच्ची घटना के बारे में बताने जा रही हूँ जो की मेरे ही फ्रेंड के साथ घटित हुई, कैसे मरने के बाद भी किया अपना बादा पूरा! A Horror Story  […]

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Name and email are required