Success Story of Larry Page – Google CEO

Google CEO: ​दोस्तों आज मे आपको ऐसे शख्स के बारे मे वताना चाहूंगी जिसने दुनिया मे नई क्रांति लाई। दोस्तों मे बात कर रही हूं गूगल के निर्माता Larry Page का। जिन्होंने दुनियाभर का लोकप्रिय सर्च  इंजन बनाया।

दोस्तों Larry Page प्रख्यात अमेंरिकी computer वैज्ञानिक और व्यवसायी है। उन्होंने अपने दोस्त Sergey Brin के साथ मिलकर सन् 1998 में Google search engine लांच किया  और जल्द ही यह संर्च इंजन दुनियाभर का लोकप्रिय सर्च इंजन बन गया।

Read More: Vijay Shekhar Sharma Success Story – Paytm Founder

दोस्तों लेरी पेज का जन्म 26 मार्च 1973 को मिशिगन संयुक्त राज्य अमेरिका में हुआ। उनके माता-पिता भी  कंप्युटर विशेषज्ञ थे। उन्होंने भी स्टेन फोर्ड युनिवर्सिटी मिशिगन से कंप्युटर इंजीनियरिंग कीै। वो पढ़ने में बहुत होशियार थे।फिर एक दिन यहीं उनकी मुलाकात सेर्गेय ब्रिन से हुई दोनों मे दोस्ती हुई और फिर दोनो ने गुगल सर्च इंजन का निर्माण किया। वैसे लैरी का पूरा नाम लारेंस पेज है। उनके पिता कार्ल पेज प्रख्यात कंप्युटर वैज्ञानिक रहे और मां कंप्युटर प्रोंग्रांमिंग की शिक्षिका रही। मिशिगन के ओकेमास मांटेसरी स्कूल में उनकी आरंभिक शिक्षा हुई थी।

READ :  KFC Owner - Success Story

उसके पश्चात् इस्ट लेंसिंग हाई स्कूल से उन्होंने स्नातक किया और स्टेन फोर्ड युनिवर्सिटी से कंप्युटर से पोस्ट ग्रेजुएट करने के बाद यही से वल्र्ड वाइड वेब की लिंक संरचना विषय पर पीएचडी करने लगे। और उनके साथ जुड गये।
उसके पश्चात उन्होंने अपने शोध में लैरी को कई  समस्या आई पर उन्होंने हार नहीं मानी और उन्होंने उन समस्याओ पर ध्यान केन्द्रत किया कि कौन से वेब पेज एक दिये गये पेज के साथ लिंक होते है। यदि वे वेब के प्रत्येंक बेकलिंक की गिनती और अहर्ता प्राप्त करने की कोई विधि तैयार कर सके तो वेब एक अधिक मूल्यवान स्थान बन जायेगा। उन्होंने कई साल खोजबीन की।

Read More: Julio Iglesias Biography – Success Story

फिर चार साल की खोजबीन के बाद एक पेज रेंक एल्गोरिदम विकसीत किया और फिर उन्हें लगा कि प्रचलित सर्च इंजनों से कही अधिक उन्नत सर्च इंजन के निर्माण में इसका उपयोग किया जा सकता है।  उसके बाद सन् 1926 में गुगल का प्रांरभिक सस्ंकरण आया जिसने दुनिया भर में अपनी जगह बना ली। उनका यह गुगल सर्च इंजन लोकप्रियता के क्रम में पेज प्रदर्शित करता है।
दोस्तों आपको पता है यह शब्द कहाँ से लिया गया हैं। यह शब्द  गणित के  गोगोल से लिया गया है। जिसका अर्थ हैं अंक एक जिसके आगे 100 शून्य लगी होती है। अर्थात गुगल सर्च इंजन जो की करोडों अरबों परिणाम प्रदर्षित करता है।

READ :  Ratan Tata Biography – Success Story

दोस्तो उन्होंने अपने परिवार, दोस्तो और निवेशकों से दस लाख डालर का कर्ज लेकर लैरी और ब्रिन ने 1998 में गुगल इंक कंपनी लांच की और जल्द ही गुगल दुनिया का सबसे लोक्रप्रिय संर्च इंजन बन गया। वर्ष 2013 में प्रतिदिन औसतन 590 अरब सर्च की गयी। गुगल का मुख्यालय केलिफोर्निया की सिलीकान वैली में है। अगस्त 2004 में गुगल को शेयर मार्केट में उतारा गया। जिसने लैरी और ब्रिन को अरबपति बना दिया। वर्ष 2006 में गुगल ने विडियों वेब पर डालने की सबसे लोकप्रिय वेबसाइट यु-ट्युब को 165 अरब डालर में खरीद लिया।

Read More: Kaas Aisa Hota – A True Inspirational Story

READ :  A Journey From Factory Worker to A Writer-Charles Dickens

सितंबर 2013 में फोब्र्स की 400 अमेरिकी धनवानों की सूची में लैरी 13 वें स्थान पर रहे। इसी वर्ष अक्टुबर में फोब्र्स की सबसे शक्तिशाली सूची में वे 17 वें स्थान पर रहे। आज गुगल सीईओं लैरी कंपनी की देनंदिनी तरक्की में सक्रिय है।
ब्रिन गुगल की खास परियोजनाओं के डायरेक्टर है। कंप्युटर जगत में उल्लेखनीय कार्यों के लिए उन्हें अनेक पुरस्कार सम्मान और मानद उपाधियां हासिल हुई जिनमें मार्कोनी फाउंडेशन पुरस्कार,

टेक्निकल एक्सलेंस पुरस्कार
बेब्बी अवार्ड
सर्च इंजन पुरस्कार इत्यादि शामिल हैं। और उनकी मेहनत ने आज इंटरनेट को इतना आसान बना दिया |

दोस्तों आपको Lerry पेज की कहानी पसन्द आई हो तो please इसे Share ,Like, Comments जरूर करें।

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Name and email are required